Pages

Sunday, July 3, 2011

स्विस के लिए खतरा बने बाबा रामदेव, चीन व रूस में भी रामदेव इफेक्ट



मित्रों इन दिनों स्विस सरकार व स्विस बैंक एसोसिएशन के लिए बाबा रामदेव सबसे बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं| ध्यान दिया जाए तो पता चलता है कि बाबा रामदेव स्विस सरकार के लिए दुश्मन नंबर १ बन गए हैं|

UBS व स्विस सरकार ने बताया है कि इन दिनों स्विस बैंकों में जमा काले धन में पंद्रह लाख करोड़ डॉलर की भारी कमी आई है| इससे स्विस इकोनोमी को खतरा तो पैदा हुआ ही है, साथ ही आने वाले समय में भी संकट दिख रहा है| वहां की मीडिया में इसे रामदेव इफेक्ट के नाम से दिखाया जा रहा है|

स्विट्ज़रलैंड की चिंता लाज़मी है, क्यों कि अमरीका पहले ही अपना काला धन मंगवा चूका है| यहाँ तक कि पाकिस्तान जैसे देश ने भी मुहीम चला दी है| किन्तु अकेले भारत के काले धन से ही स्विस इकोनोमी चल सकती है| क्योंकि स्विट्ज़रलैंड में सबसे ज्यादा काला धन भारत का ही है| और बाबा रामदेव ने इस काले धन को पुन: भारत में लाने के लिए जन आन्दोलन खड़ा कर दिया है| स्विस सरकार की चिंता यह है कि यह आन्दोलन निरंतर मज़बूत होता जा रहा है|

इतना क्या कम था कि अब चीन व रूस ने भी कालेधन को वापस लाने के लिए मुहीम छेड़ दी है| चीन व रूस भी स्विस बैंकों में काला धन जमा करने वाले देशों की अग्रिम पंक्ति में खड़े हैं| अब ऐसे में एशिया के इन तीन बड़े देशों द्वारा जमा किया काला धन यदि स्विस बैंकों के हाथ से निकल गया तो स्विट्ज़रलैंड के बिकने की नौबत आ सकती है|

और यह सब संभव होता दिख रहा है बाबा रामदेव के अभियान से|

पिछले कई दिनों से रूस में लेनिन स्क्वायर पर रूसी लोग सामाजिक कार्यकर्ता ब्लादिमीर इलिनोइच के नेतृत्व में काले धन के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं| उनके इस प्रदर्शन से तंग आकर रूसी सरकार ने दो माह के भीतर काला धन वापस लाने का लिखित आश्वासन दिया है| ब्लादिमीर इलिनोइच ने बाबा रामदेव को अपना प्रेरणा स्त्रोत मानकर यह आन्दोलन शुरू किया है|

उधर चीन की सरकार भी चिंतित है| दरअसल मिस्र व लीबिया में हुई क्रान्ति के चलते चीनी सरकार को यह भय सता रहा है कि यदि देश का जनमत जाग जाए तो तानाशाहों को भी उखाड़ कर फेंक सकता है| अत: चीनी सरकार ने क़ानून बना कर स्विस सरकार से काले धन के सन्दर्भ में पूरा ब्यौरा माँगा है| साथ ही भ्रष्टाचारियों के लिए मृत्यु दंड का प्रावधान भी रखा है|

दुनिया के तानाशाह देश भी अब जनता से घबरा रहे हैं| किन्तु यहाँ भारत में लोकतंत्र होते हुए भी सरकार न केवल भ्रष्टाचार पर भ्रष्टाचार कर रही है अपितु इसके विरुद्ध आवाज़ उठाने वालों पर बर्बर अत्याचार भी कर रही है| 

और यह सब तब तक चलता रहेगा जब तक इस देश के बुद्धूजीवी अपना अपना बुद्धू कर्म करते रहेंगे| इन्हें अक्ल तब आएगी जब यह कांग्रेस इनके घरों में घुस कर इन्हें लूटना व पीटना शुरू करेगी| यही सब बुद्धू कर्म चलता रहा तो वह समय भी जल्दी ही आने वाला है| अभी NAC ने Communal Violence Bill संसद में पारित करवाने के लिए पेश कर दिया है| इन भ्रष्टों से भरी संसद में यह पारित भी हो जाए तो कोई आश्चर्य नहीं| इस विधेयक के बहाने ये हमें हिंसा का शिकार भी बनाएंगे, हमारी माँ-बहनों का बलात्कार भी करेंगे व हमारे खून पसीने की कमाई भी लूटेंगे|

परन्तु सरकार अपने इन घोर षड्यंत्रों में सफल नहीं हो सकेगी क्योंकि अब कांग्रेस को भी कहीं न कहीं देश की अवाम के जागने से चिंता हो ही रही है| कहीं न कहीं उसे भी Common Man का भय सता रहा है| अरब देशों में हुई क्रान्ति इस बात का सबूत है कि इंटरनेट के माध्यम से भी एक बहुत बड़ा व ताकतवर जनांदोलन खड़ा किया जा सकता है| भारत में भी इन दिनों फेसबुक, ट्विटर, ब्लॉग व अन्य वेब पोर्टल पर बाबा रामदेव के सुर से सुर मिलते दिखाई दे रहे हैं| देश का एक बहुत बड़ा पढ़ा लिखा व ताकतवर वर्ग इन दिनों सरकार के विरुद्ध एक अभियान चला रहा है| यह सब देखकर हम आश्वस्त हैं कि सरकार अपने काले षड्यंत्रों में कभी सफल नहीं हो सकेगी|

नोट : चीन और रूस से पहले ताइवान में भी बाबा रामदेव से प्रेरित होकर ऐसा ही जनांदोलन खड़ा हो चूका है| ये तो वे देश हैं जो मेरी जानकारी में हैं, इनके अतरिक्त और भी कई देश हो सकते हैं|

अंत में जाते हुए एक सरकारी पहल - बाबा रामदेव ने Currency Recall का भी एक मुद्दा उठाया है, जिसके अंतर्गत बड़े नोट (पांच सौ व हज़ार के) बंद होने चाहिए| सरकार ने चवन्नी से शुरुआत कर दी है| आज शायद बाज़ार में चवन्नी से कोई चीज़ खरीद पाना असंभव है, यह असम्भावना इसी कांग्रेस सरकार ने इस देश को महंगाई के रूप में दी है|


26 comments:

  1. दिवस जी,

    राष्ट्रव्यापी क्रान्ति ने विश्वव्यापी क्रांती का रूप ले ही लिया
    भ्रष्ट केवल भारत में ही नहीं भरे हुए ........ विश्व के कौने-कौने में लोकतंत्र का खोल ओड़कर 'राजा' बने बैठे हैं..
    अब तक भोली जनता को रोजमर्रा की जरूरतों में फँसाकर ........ इस ओर से ध्यान भटका दिया था.
    सचमुच रामदेव ने जनक्रांति खड़ी कर दी है... जो देश की सीमाएँ लांघकर विदेशों तक जा पहुँची है.
    आपके इस 'जागृति-लेख' और 'स्व-अभिमान से सिक्त विचारों' के लिये साधुवाद.

    वन्देमातरम

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत आभार महोदय ||

    ReplyDelete
  3. हो सकता है स्विस सोनिया गठजोड़ बाबा जी की हत्या का प्रयास करे
    सबसे ज्यादा धन भारत से और भारत में सबसे ज्यादा नेहरु गाँधी राजवंश((??) का ..
    बाबा जी ने जो आन्दोलन खड़ा किया है उसमें हम सब की सक्रिय भागीदारी ही इसे परिणिति तक ला सकती है..
    जय श्री राम
    जय हिन्दुस्थान

    ReplyDelete
  4. अभी तो ये सुरुवात ही है !आगे तो बहुत कुछ बाकी हे !इन भ्रस्त लोगो को देखने के लिए !
    "samrat bundelkhand"

    ReplyDelete
  5. ये तो होना ही था , आगे आगे देखिये होता है क्या . आपकी पोस्ट से महत्वपूर्ण जानकारी मिली . धन्यवाद .

    ReplyDelete
  6. मंग्लेश्वेरJuly 3, 2011 at 4:10 PM

    भविष्य वक्ता नास्त्रे दमस की भविष्यवानियों में से एक भविष्यवाणी और सच होती दिख रही है ! कि भारत से निकला एक गुरु विश्व पटल पर भारत का नाम सुनहरे अक्षर में लिखवाएगा ! भारत की संस्कृति, सभ्यता, योग, संस्कार को विश्व में फैलाएगा ! विश्व शांति का दूत बनेगा ! भारत विश्व शक्ति बन के उभरेगा !
    और उन भविष्यवानियों के अनुसार वो समय आ भी गया ! सूत्रधार हैं पूज्य बाबा रामदेव जी ! कांग्रेस का बोरिया बिस्तर समेटने का टाइम आ गया ! काला धन जरूर आएगा और ये देशद्रोही काल कोठरी में जायेंगे ! नयी सरकार को आने के साथ ही अपने सालाना बजट में एक वृद्धि करनी पड़ेगी, और वो है तिहाड़ जेल का साइज़ बढ़ाना ! बहुत से लोगों का नया एड्रेस होने वाला है यह !
    हल्ला बोल.. वन्दे मातरम... !
    बाबा पे शक करने की बजाय उन्हें समर्थन देने का समय है.. कांग्रेस के बहकावे वाले षडयंत्र में बहुत से बुद्धूजीवी (सही शब्द दिया है दिवस भाई ने) अभी भी हैं.. और उनमे तो कई इतने डीठ हैं की अभी भी समझाने को तैयार नहीं.. वो अब भी ४० लाख करोड़ की बजाय बाबा के ११ सो करोड़ (जो की देश सेवा में और जन उत्थान में काम आ रहे हैं) की चर्चा करते हैं. . ऐसा लगता है की उन्हें बाबा के सत्याग्रह से काला धन लाने की बजाय सेकुलर लोगों द्वारा किये प्रयास पे ज्यादा विश्वास है... वो उन्ही बातों पे यकीन करते हैं, जो ये बिका हुआ मीडिया उन्हें दिखाता है.. उनका स्वंय का विवेक है ही नहीं जो वो इससे आगे भी कुछ सोच सकें.. मेरी सहृदय प्रार्थना है ऐसे लोगों से की वो अपनी बुद्धू-जीवी वाली केटेगरी से बाहर आ कर असली बुद्धि-जीवी बने..
    पूरे विश्व में सबसे ज्यादा सॉफ्टवेर इंजिनियर, वैज्ञानिक विचारक, भारतीय ही हैं.. अपने अन्दर के विवेक को जगाओ, अपने अंदर भगवान् हनुमान जैसी शक्तियां हैं.. उन्हें पहचानो.. और सच्चे व जागरूक बुद्धि-जीवी बनो.. ये हराम की औलादें भाग जायेंगी जैसे ही इन्हें पता चलेगा की हर एक भारतीय को अपनी शक्तियों का पता चल चूका है.. वो स्वंय विवेक से सोचने लगा है... वो जाग गया है...

    ReplyDelete
  7. इस तरह के परिणाम ही होने थे...... जागरूकता की कमी भी भ्रष्टाचार की बड़ी है .... जनजागरण की मुहीम बहुत कुछ बदल सकती है चाहे भारत हो या कोई और देश.....

    ReplyDelete
  8. bahut badiya jan gagarti ke prastuti... dheere dheere hi sahi lekin jan jaagrukta bahut kuch palat kar rakhne mein ek n ek din saksham jarur hogi...

    ReplyDelete
  9. दिवस जी आपने बहुत ही सुन्दर जानकारी उपलब्ध करायी है !आज सुप्रीम कोर्ट ने एस.आई.टी.का गठन कर दिया है ,जो बाबा रामदेव जी के आन्दोलन का ही एक नतीजा है १ अब आगे देखना है होता है क्या ?

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. दिवस जी आपने बहुत ही सुन्दर जानकारी उपलब्ध करायी है धन्यवाद !

    “दर्द होता रहा छटपटाते रहे,
    आईने॒से सदा चोट खाते रहे,
    वो वतन बेचकर मुस्कुराते रहे
    हम वतन के लिए॒सिर कटाते रहे”
    280 लाख करोड़ का सवाल है ...
    भारतीय गरीब है लेकिन भारत देश कभी गरीब नहीं रहा" ये कहना है स्विस बैंक के डाइरेक्टर का. स्विस बैंक के डाइरेक्टर ने यह भी कहा है कि भारत का लगभग 280 लाख करोड़ रुपय उनके स्विस बैंक में जमा है. ये रकम इतनी है कि भारत का आने वाले 30 सालों का बजट बिना टैक्स के बनाया जा सकता है.
    भारत को किसी वर्ल्ड बैंक के लोन की कोई दरकार नहीं है. सोचो की कितना पैसा हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और उच्च अधिकारीयों ने ब्लाक करके रखा हुआ है.
    हमे भ्रस्ट राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारीयों के खिलाफ जाने का पूर्ण अधिकार है.हाल ही में हुवे घोटालों का आप सभी को पता ही है - . घोटाला, २ जी स्पेक्ट्रुम घोटाला , आदर्श होउसिंग घोटाला ... और ना जाने कौन कौन से घोटाले अभी उजागर होने वाले है.....

    ReplyDelete
  12. Why not rename the blog as baba ramdev blog .. U seem to be biased in the posts .. Extremist views .. The language is disturbing .. "Mass Rapes" .. Have only heard of it in war situations .. I guess u expect it to happen in democracy .. U were different in college .. I hope that diwas gets resurrected .. Write some good things on the blog .. If u want to raise the concerns then u do have a platform .. The ones organized by anna hazare or ramdev baba or it could be you .. But, i request not spread hatred and sense of insecurity among citizens .. This is not happening ..

    ReplyDelete
  13. People will talk shit, then that doesn't mean u have talk shit too .. Take actions .. U can't change every individual .. Can u .. No u cant .. But, u can change the attitude .. N my dear friend attitude never changes by writing extremists views ..

    ReplyDelete
  14. If u really care then change the system .. Why not come forward and contest in elections .. Take a stand .. Revive the country .. Writing here if solves the problem then u can keep on writing, but who is gonna work on it .. I guess a writer can only write .. So, buddy all my wishes with u and expect some good work here..

    ReplyDelete
  15. मिस्टर बेनामी महोदय यदि सत्य कहने की हिम्मत है तो परदे के बाहर आकर खुले आम कहो |
    अन्यथा चुप चाप अपने बिल में बैठे रहो | हमें भी आता है अनर्गल प्रलाप करना |
    आप जैसे लोगों की वजह से भारत की ये दुर्दशा हुई है |
    न तो खुद बुराई दूर करेंगे तथा यदि कोई आगे आता है तो टांग फंसा उसे कर गिराने में लगे रहते हैं |
    चिंता ना करें दिवस जी हम सब आपके मिशन में पूरी तरह आपके साथ हैं|
    अगर सर कटाने की नौबत भी आई तो हम पीछे नहीं हटेंगे |

    ReplyDelete
  16. बंधुवर बेनामी जी आप अपना नाम तो बताएं| शायद आप मेरे साथ कॉलेज में थे| मैं नहीं बदला, मैं हमेशा से ऐसा ही था| शायद आपने मुझे भांपा नहीं| हो सकता है आप मेरी प्रतीक्षा का गलत अर्थ निकाल बैठे| दरअसल मुझे कुछ बनने की प्रतीक्षा करने को कहा गया था| आज जब कुछ बन गया तो अपने मूल उद्देश्य पर लग गया|
    आप अपना नाम तो बताएं, आपको आपके सभी प्रश्नों के उत्तर मिल जाएंगे|
    और आदरणीय मदन शर्म जी ने आपको उत्तर दे ही दिया है, शायद आप उससे संतुष्ट हों|

    ReplyDelete
  17. आदरणीय मदन शर्मा जी आपका बहुत बहुत आभार...
    आप जैसे अग्रजों से प्रेरणा मिलती रहे तो हम जैसे अनुज सदैव इस शुभ कार्य में आगे बढ़ते रहेंगे|
    सर कटाने का समय आया तो हम भी आपके साथ खड़े होंगे|

    ReplyDelete
  18. divas ji,
    ek ek bat sahi likhi hai aur aaj ye baba ramdev ji ke hi athak parishram ka prabhav hai jiske falswaroop sarkar baukhlayeehui hai.poori tarah se sahmat.

    ReplyDelete
  19. .

    प्रिय भाई दिवस ,
    इस आलेख के माध्यम से आपने एक शुभ समाचार दिया. हार्दिक प्रसन्नता है ये जानकार की रामदेव जी के भ्रष्टाचार और काले धन के विरोध में किया गया आन्दोलन अब विश्व व्यापी हो रहा है. अब दिल्ली दूर नहीं .
    शुभकामनाएं

    .

    ReplyDelete
  20. gaur bhi,aapne bahut aacha likha hai,or in future aisa hi hone wala hai.indian young brigaid jaag chuki hai,or ab desh ko bachane ka samay bhi aa gaya hai.or UP 2012 election me congress ka bahut buraa haal hone wala hai.ab har yuva baba ramdev or anna hajjare jaise nayako k sath kheda hai.

    ReplyDelete
  21. @madan sharma @ er diwas gaur .. Saheb shayad aapko meri likhi baat samjh nai aayi .. isliye dobara yahan aa kar likhna pada .. maine ise roka nai h .. naa hi iski taang khich kar girane ki koshish ki h .. kripya mere comment ko dobara padhne ki krapa karein .. humne inhe sirf yahi kaha ki bhaiya thoda acha likho naa ki mat likho .. agar aap chahein toh hum uska hindi anuvad bhi kar denge .. aur naam mein ke rakho hai .. main chahe gujrati punjabi bihari tenu ki farak penda hai .. હું તેને પ્રતિક્રિયા આપી હતી .. تو میں نے .. 再見傢伙

    ReplyDelete
  22. aur saheb aapki toh टिप्पणी padhke aisa laga ki ye bhrastachar humse hi chalu hua hai .. kya hamare jaise logo ki vajah se desh ki durdasha hui hai .. saheb agar hum jaise log hote toh desh aaj behtar hota .. aap jaise log naa hote tab .. kyunki saheb hum isme vishvas karte hain .. "रोकथाम इलाज से बेहतर है!!"

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर जानकारी और सार्थक पोस्ट ...आभार

    ReplyDelete
  24. muje lagta hai ki kahi ye log saara rupyaa nikaal kar kahi aur jamaa naa karde pata chalaa ki bahaa kaalaa dhan hai hi nahee

    ReplyDelete